All Stories

शंकराचार्य

मान्यता हे की शंकराचार्य को भगवान् ने आठ साल का आयुष्या दिया था , जिसमे उनका बचपन भी पूर्ण नहीं होता . लेकिन शंकराचार्य ने आठ साल की उम्र में...

कावडीबुवा

माता - पिता को कांवड़ में बिठा कर यात्रा करने वाले श्रवण कुमार को हर कोई जानता हे . अपनी पीठ पर कावड़ उठा कर ले जाने वाले श्रवण कुमार...

रघुनाथ भट्टजी (अद्वैतेश्वर)

नर्मदा नदी के तट पर भृगुक्षेत्र में ज्ञानवर्धन नमक एक ब्राह्मण अपनी पत्नी के साथ तपस्चर्या कर रहा था. दोनों शिव भक्क्त थे. दोनों यही प्रार्थना करते थे की “भृगुऋषि...

रहस्य कोई कोई जाने

“परोपराय इदं शरीरम” अर्थात यह शरीर परोपकार के लिए हे यह वाक्य वास्तव में संत सिद्ध कर देते हे . संतो की प्रत्येक क्षण परोपकार के लिए ही होती हे...

गुरु महिमा

गुरु महिमा अपरम्पार हे .”गुरु” शब्द की तुलना “गुरु” के साथ हो सकती हे , फिर भी समर्पण और प्रेम यह दो शब्दरूपी पुण्य को गुरु पादुका को अर्पण करने...